Sunday, January 8, 2012

फराज


उन्गलीया तुट गई पथ्थर तराशते तराशते फराज 
और जब बनी सुरत-ए -यार तो खरीतदार आ गये 

No comments:

Post a Comment