Sunday, January 8, 2012

फराज

वो रोज देखता है डूबते हुवे सुरज को फराज 
काश मै भी किसी शाम का मंजर होता !!!!

No comments:

Post a Comment