Sunday, January 8, 2012

फराज

मिली जो सजा मुझे वो किसी खतापे  न थी फराज 
मुझपे जुर्म जो साबित हुवा  वो वफा का था  
 

No comments:

Post a Comment