Sunday, July 21, 2013

अब उसे रोज न सोचू तो बदन तुटता है फराज













अब उसे रोज न सोचू तो बदन तुटता है फराज 
उमर गुजरी है ऊसकी याद का नशा करते करते ....

No comments:

Post a Comment