Friday, August 4, 2017

बीते रिश्ते तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है
ख़ुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

जब गुज़रती है उस गली से सबा
ख़त के पुर्ज़े तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार
पीले पत्ते तलाश करती है

एक उम्मीद बार बार कर
अपने टुकड़े तलाश करती है

बूढ़ी पगडंडी शहर तक कर
अपने बेटे तलाश करती है

No comments:

Post a Comment