Sunday, January 8, 2012

फराज

 अब निंदसे कहो हमसे सुलाह करले फराज 
वो दूर चला गया है जिस के लिये हम जगा करते थे 

No comments:

Post a Comment