Sunday, January 8, 2012

फराज

भला हाथोंकी लकीरेभी कही मिटती है फराज 
कितना पागल है मेरा नाम मिटानेवाला 

No comments:

Post a Comment