Sunday, January 8, 2012

फराज


तुझे फुरसत हि नही मिली पढने कि फराज 
हम तेरे शेहेर में बिकते रहे किताबोन्की तरह

No comments:

Post a Comment